No icon

SHAAN

मेरी जिंदगी का पहला शो नारायण रॉय ने मुझे दिलाया था, वह कभी भूल नहीं सकता : शान

कोलकाता,नि.स l मशहूर सिंगर शान ने कहा है कि आज से 24 वर्ष पहले उनको उनकी ज़िंदगी का पहला शो छंदम इवेंट्स के कर्णधार श्री नारायण रॉय ने दिलाया था और वे इस वाकये को आजीवन याद रखेंगे.

जी हां, हाल ही में दमदम उत्सव में अपनी प्रस्तुति से पहले शान ने भारतमित्र अखबार से बातचीत करते हुए कुछ ऐसा ही कहा. शान ने आगे कहा, महानगर के कलामंदिर में शान-सागरिका के नाम से बैक टू बैक 2 शो का आयोजन किया गया था. उस शो के दौरान हमारे साथ 4 डांसर को भी परफॉर्म करना था. उनमें से एक बॉस्को सीज़र भी थे, जो आज भारतवर्ष के बेहतरीन कोरियोग्राफर में से एक हैं.

आज के बॉलीवुड म्यूजिक सिनेरियो के बारे में पूछने पर शान ने कहा, मैं समझता हूं कि आजकल के नए स्टाइल को अपनाना आवश्यक है. प्लेबैक सिंगिंग काफी कम होता जा रहा है. मैं इस बात के लिए इंतज़ार नहीं करता कि कब कोई निर्माता,निर्देशक या म्यूजिक डायरेक्टर मेरे पास आये और मुझे गाने के लिए ऑफर दें. दूसरी तरफ मैं नोस्टाल्जिया में भी विश्वास नहीं करता. इसलिए खुद गाने लिखता हूं, कम्पोज करता हूं और गाता भी हूं . पिछले वर्ष भी 4 से 5 रोमांटिक सिंगल्स निकाल चुका हूं. मेरे पिता स्वर्गीय मानस मुखर्जी भी बेहतरीन कम्पोज़र रह चुके हैं, उनकी विरासत को आगे जो बढ़ाना है. वैसे टीवी शोज भी करता हूं. आगामी 12 जनवरी 2020 को स्टार जलसा चैनल में मेरा एक शो प्रसारित होने जा रहा है लेकिन फिल्मों में प्लेबैक सिंगिंग के लिए मैं हमेशा तैयार हूं. 

'वैसे मेरा जन्म मुम्बई में हुआ था, लेकिन मेरी फैमिली महानगर से है. राहुल एवं दोला जिन्हें आर्चरी स्पोर्ट्स में अर्जुना अवार्ड से नवाजा गया है, मेरे भाई बहन हैं और वे यहीं के हैं,' शान ने महानगर से जुड़ी हुई यादों के बारे में पूछने पर कुछ ऐसा ही कहा. 

उन्होंने आगे कहा, यहां तक कि मेरी मां की ओर से सारे रिश्तेदार डनलोप से हैं. जो अभी शिफ्ट हो गए हैं. 

वहीं फूडिंग हैबिट्स के बारे में पूछने पर शान ने कहा, आजकल मुम्बई में काफी सारे बंगाली क्यूजीन खुल चुके हैं, सो वहीं बंगाली खाना नसीब हो जाता है. महानगर आने पर होटल में रुकता हूं, सो जो मिलता है वही खा लेता हूं.

अपने सपनों के बारे में बातचीत करते हुए शान ने बताया कि गाना  वगैरह तो सही चल रहा है. देश के लिए हमेशा कुछ करने की चाहत रखता हूँ. इसलिए हमेशा किसी न किसी सामाजिक मुद्दे से जुड़ जाता हूं. चाहें वह बीट प्लास्टिक की कैम्पेनिंग हो या कुछ और. हाल ही में मैंने एयर पॉल्युशन की कैम्पेनिंग में शामिल हुआ हूं.

किसी भी शो में परफॉर्म करने से पहले दिमाग में क्या चलता है और कैसी तैयारियां होती हैं,पूछने पर उसके जवाब में शान ने कहा, पहले तो ये सोचता हूँ कि गला चलेगा कि नहीं, लेकिन टचवुड हरदम सब कुछ सही रहा है.  जहां तक तैयारियों की बात है , डॉन का गाना, चांद सिफारिश, तन्हा दिल, सुनो ना इत्यादि की फ़रमाइशें तो दर्शकों की ओर से रहती हैं.


शान ने आगे कहा, महानगर में परफॉर्मेंस के दौरान मंच पर रवींद्र संगीत, बांग्ला फिल्मों के गीत इत्यादि ज्यादा गाता हूं. ऑडिएंस के चॉयस पर भी काफी कुछ निर्भर करता है. 6 जनवरी 2020 को जब मैं महानगर आया था, तो वहां कुछ भोजपुरी गीत भी पेश किया था.

दमदम उत्सव में अपने परफॉर्मेंस को लेकर शान का कहना था कि वे बांग्ला गीत माझी रे, से छीलो बरोइ आनमना, बिहू रिदम में तैयार की गई एक गीत 'बावड़ी' पहली बार परफॉर्म करने जा रहे हैं. और उनके साथ महानगर से किसी कंटेस्ट की विजेता जो कि एक फीमेल सिंगर हैं, उपरोक्त शो का हिस्सा बनेंगी.

आजकल के गायकों में से आप किसको ज़्यादा पसन्द करतें हैं, पूछने पर शान ने कहा, सभी का एक कंटेम्पररी स्टाइल है. उन लोगों की तरह गाने की कोशिश करता हूं, ऐसा करने के बाद कभी-कभी लगता है कि मैं ही सही था. वैसे सभी की आवाज़ अरिजीत सिंह की तरह लगती है. शायद वक़्त के साथ यह बदल जायेगा.

जाते जाते शान ने अपने चाहनेवालों के उद्देश्य में कहा, म्यूजिक ,फ़िल्म या कुछ और जो आपको सकारात्मक ऊर्जा देते हैं, ज़िन्दगी में उसी को अपनाना बेहतर होगा.

इस अवसर पर श्री नारायण रॉय,कर्णधार-छंदम सहित कई अन्य मौजूद थे.

Comment