No icon

सोहम के साथ सोहिनी की जोड़ी

सोहम ने कहा था कि वे मुझे आसानी से अपनी गोद में उठा लेंगे : सोहिनी 

कोलकाता, नि.सं l पीरियड फिल्मों का आजकल काफी चलन है. और इसी सिलसिले को बरकरार रखते हुए निर्देशक सौमेन सुर ने अपनी नई बांग्ला फ़िल्म 'एई आमी रेणु' की शूटिंग शुरू कर दी है. फ़िल्म की कहानी समरेश मजूमदार की नॉवल पर आधारित है. फ़िल्म को 80 के दशक की पृष्ठभूमि पर बनाया जा रहा है. इस फ़िल्म के निर्माता सलीम एल रहमान हैं. फ़िल्म का स्क्रिप्ट पद्मनाभ दासगुप्ता ने लिखा है. म्यूजिक राणा मुखर्जी और इन्द्रदीप दासगुप्ता दें रहें हैं. इस फ़िल्म में सोहम चक्रवर्ती, सोहिनी सरकार और गौरव चक्रवर्ती हैं. इस फ़िल्म में पहली बार सोहम के विपरीत सोहिनी को अभिनय करते देखा जाएगा.

फ़िल्म की कहानी 

रेणु(सोहिनी) सुमित(गौरव) से प्यार करती है. लेकिन आगे चलकर रेणु की शादी एक सरकारी कर्मचारी बरेन(सोहम) से हो जाती है और फ़िल्म की कहानी आगे बढ़ती है.

गत मंगलवार को उपरोक्त फ़िल्म के 10 वें दिन की शूटिंग हाजरा में रखी गई थी.

फ़िल्म के कलाकारों ने क्या कहा-

मौके पर सोहम ने फ़िल्म में अपने चरित्र के बारे में बातचीत करते हुए कहा, इस फ़िल्म में मैं एक गम्भीर सरकारी अफसर के किरदार में हूं, जिसकी शादी सोहिनी से होती है.और फ़िल्म की कहानी आगे बढ़ती है. 

सोहम को एक सवाल कि 80 के दशक के प्यार की परिभाषा को अगर आज के दौर के साथ तुलना की जाए, तो क्या बदलाव पाते हैं, पूछने पर उन्होंने कहा, तब छुप-छुप के चिट्ठियां देना, लैंडलाइन पर फोन करना इत्यादि का चलन था. और आज इंटरनेट का ज़माना है. हर एक चीज़ तुरंत उपलब्ध हो जाती है. प्यार की परिभाषा में काफी बदलाव आया है.

आपको बता दें, धर्मयुद्ध, मिस्ड कॉल,प्रतिघात और श्रीमती सोहम की आनेवाली फिल्मों में खास है.

'रेणु का चरित्र काफी कम्प्लिकेटेड है और इसमें काफी लेयर्स भी है,' जी हां, मौके पर सोहिनी से जब उनके चरित्र रेणु के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कुछ ऐसा ही कहा.

सोहम के साथ पहली बार अभिनय करने जा रहीं हैं, कैसा लग रहा है, पूछने पर सोहिनी ने कहा, कुछ दिनों पहले उनके साथ एक शूट किया था. उस दौरान वे इस फ़िल्म के सभी कलाकारों के साथ काफी चिल कर रहें थे. उस शूट के दौरान उनको मुझे उनकी गोद में उठाना था, तो मैंने उनसे पूछा था कि सोहम मेरा वजन काफी ज्यादा है,के जवाब में उन्होंने कहा था, वैसे मैंने काफी नायिकाओं को उठाया है.यह सुनकर मुझे लगा कि उनके साथ अभिनय करने में मजा आएगा.

'80 के दशक में लड़कियों के साथ जिस्मानी ताल्लुकात बनाना काफी मुश्किल होता था, और इसलिए प्यार लम्बा चलता था, आजकल इस पर पाबंदियां नहीं रही. सो प्यार ज़्यादा दिनों तक टिकती नहीं है,' जी हां, जब सोहिनी से 80 के दशक के प्यार की परिभाषा और आज के दशक के प्यार की परिभाषा में तुलना करने के लिए कहा गया तो उसके जवाब में उन्होंने उपरोक्त बातें कहीं.

 

दूसरी तरफ फ़िल्म का एक और नायक गौरव ने कहा, पहले के ज़माने में कम्युनिकेशन के अभाव की वजह से रिश्तों में गलतफहमियां पैदा हो जाती थीं, इस फ़िल्म में उसी को दिखाया गया है.

सोहिनी के साथ काम करने के अनुभवों के बारे में पूछने पर गौरव ने कहा, मेरी पहली फ़िल्म रूपकथा नॉय उनके साथ ही थी. यहां तक कि पहली सीरियल अद्वितीयता भी मैंने उन्ही के साथ की थी,सो हमारी केमिस्ट्री काफी स्ट्रांग है.

वही फ़िल्म की स्टाइलिस्ट पैन्सी साहा ने कहा, फ़िल्म के कलाकारों की स्टाइलिंग करने के लिए मैंने काफी अन्वेषण किया है.

'नॉस्टैल्जिक चीज़े मेरे दिल को काफी छू जाती है,' शायद इसलिए मैंने 80 के दशक की कहानी पर फ़िल्म बनाने की सोची, जी हां, फ़िल्म के निर्देशक सौमेन सुर ने फ़िल्म के बारे में पूछने पर कुछ ऐसा ही कहा.

Comment