No icon

स्वावलंबी होने की कहानी बयां करती है लैपटॉप-ए लॉकडाउन फ़िल्म

कोलकाता,नि.स l बैसाखी(रितुपर्णा सेनगुप्ता) और इंद्र(साहेब चटर्जी) दोनों मिया बीवी हैं. इंद्र किसी एक फैमिली फंक्शन अटेंड करने के लिए जाता है और तभी लॉकडाउन की वजह से वही फंस जाता है. इंद्र का बॉस उसको वर्क फ्रॉम होम का आदेश देता है. इधर इंद्र का सर्विस लैपटॉप उसके ऑफिस में है. क्योंकि ऑफिस रूल्स में मुताबिक वह लैपटॉप अपने साथ कही ले नहीं जा सकता. इंद्र अपने एक करीबी मित्र से इस बात का खुलासा करता है. इंद्र की बीवी बैसाखी को जब इस बात का पता चलता है, तो वह अपने तरीके से इंद्र का लैपटॉप उसके ऑफिस से ले आती है. आगे चलकर वह इंद्र से ऑफिस लैपटॉप का पासवर्ड लेकर उसे उस लैपटॉप से कनेक्ट करवा देती है, जो इंद्र अभी मौजूदा जगह पर इस्तेमाल कर रहा है.

जी हां, प्रेमेंदु बिकास चाकी निर्देशित बांग्ला शॉर्ट फिल्म लैपटॉप-ए लॉकडाउन फ़िल्म की कहानी कुछ ऐसी ही है. 26 वें कोलकाता अंतरराष्ट्रीय फिल्मोत्सव के दौरान आज नंदन स्थित कोलकाता इनफार्मेशन सेंटर में इस फ़िल्म का स्क्रीनिंग हुआ.

इस फ़िल्म में रितुपर्णा सेनगुप्ता और साहेब चटर्जी मुख्य भूमिका में हैं. वहीं अन्य भूमिका में सोनाली चौधरी, खेयाली दस्तीदार, ईशान मजूमदार, सुमन बनर्जी, अरिंदम गांगुली और जयजीत बनर्जी हैं.

इस फ़िल्म के निर्माता प्रेमेंदु बिकास चाकी और रितुपर्णा सेनगुप्ता हैं.

आपको बता दें, लॉकडाउन के दौरान ऐसा देखा गया है कि मनुष्य के बीच प्यार के सम्बद्ध और भी परिपक्व होते गये हैं. वे धीरे-धीरे स्वावलम्बी हो रहे हैं.  यह फ़िल्म इस विषय से भी आपको अवगत करवाएगी. फ़िल्म के बैकग्राउंड में एक गीत 'मन जखन तो माय खोंजे' का इस्तेमाल किया गया है, जो वाकई कर्णप्रिय है.

मौके पर उपस्थित प्रेमेंदु बिकास चाकी ने कहा, फ़िल्म की कहानी मैंने लिखी है और ये कहानी एक दैनिक अखबार में छपी थी.जब रितुपर्णा ने इसे देखा तो उसे बेहद पसंद आया और वह इस फ़िल्म को करने के लिए राजी हो गईं. यह फ़िल्म लॉकडाउन के दौरान अखबारों में छपी हर एक तथ्य से प्रेरित है और उसी से मिलती जुलती कहानी बयां करती है.

उन्होंने आगे कहा, इस फ़िल्म में कई ऐसे कलाकारों ने काम किया है जो विदेशों में रहते हैं. इस फ़िल्म की शूटिंग के दौरान उनसे कनेक्ट करना और सही तरीके से काम निकलवाना मेरे लिए एक चैलेंज साबित हुआ था.

वहीं मौके पर इस फ़िल्म की अभिनेत्री सोनाली चौधरी ने कहा, लॉकडाउन के दौरान मैं काफी परेशान चल रही थी. उस वक्त इस फ़िल्म को करने से मुझे सुकून मिला था. प्रेमेंदु ने जिस तरीके से मुझे अपना वीडियो शूट करने के लिए कहा था, उसे करने के लिए मैंने काफी मेहनत की थी.

Comment