No icon

अपनी बेटी को आग की तपिश देने के लिए इसने जला डाले थे 13 करोड़ रुपये

ये तो आप सबको पता ही होगा कि 1989 में फ़ोर्ब्स मैगज़ीन ने एक नाम प्रकाशित किया था पाब्लो एमिलियो एस्कोबार, जो उस समय दुनिया का 7 वां धनी व्यक्ति करार दिया गया था. अगर सम्पत्ति का आकलन किया जाए तो उसके पास 30 बिलियन डॉलर की सम्पत्ति थी. उसने ये सम्पत्ति कोकिन की स्मगलिंग से ही बनाई थी. उस समय वो 80 प्रतिशत देशों को कोकिन भेजा करता था. उसे तब कोकिन का डॉन भी माना जाता था. लगभग 15 टन कोकिन उसके यहां से निकलता था. उसकी 1 दिन की कमाई 400 करोड़ रुपये थी.

पाब्लो की सबसे बड़ी खास बात ये थी कि वो सारे पैसे घर पर या गड्ढे खोदकर दफना देता था. जिसके चलते सालाना 10 प्रतिशत पैसे चूहे कुतर देते थे, जिसका आकलन करोड़ो डॉलर रुपये बताया जाता है. 

उसकी एक घटना ये भी सामने आई है कि वो एक बार अपनी बेटी को आग की तपिश देने के लिए 13 करोड़ रुपये जला दिये थे.
 
पाब्लो कोकिन को दूसरे देशों में भेजने के लिए खुद का प्लेन एवं पनडुब्बियों का इस्तेमाल किया करता था. वो बड़ी मछलियों के पेट में कोकिन भरकर भी उसे भेजता था. यहां तक कि उसका एक पर्सनल आइलैंड भी था जहां से वो ऑपरेट करता था. धीरे-धीरे उसका धंधा बढ़ता गया. उसका 1 दिन में 30,000 टन कोकेन सप्लाई करने का भी रिकॉर्ड था.

उसने इतने पैसे बना लिए थे कि उसने सरकार को 10 बिलियन डॉलर देकर खरीदने की भी कोशिश की थी. उसका खौफ पूरे कोलम्बिया में समाया हुआ था क्योंकि उसका कहा न मानने पर पहले वो रिश्वत ऑफर करता न मानने पर मौत के घाट उतार देता था. उसने अपने पूरे कैरियर में तकरीबन 5000 से 6000 लोगों का कत्ल करवाया है.

पाब्लो का एक और साइड ये भी था कि वो गरीबों में काफी पैसे बांटा करता था जिसके चलते वह रॉबिनहुड भी कहलाता था.

एक दिन ऐसा आया कि अमेरिका को भी लगने लगा था कि ये शख्स कुछ भी कर सकता है, यहां तक कि वो सरकार भी गिरा सकता है. इसी बीच अमेरिका ने कोलम्बिया पर दबाव बनाया और आखिरकार 2 दिसंबर 1993 में अमेरिका की मदद से कोलम्बिया सरकार की टास्क फ़ोर्स ने उसे मार गिराया.

Comment