No icon

Apollo

9 अगस्त से द्वितीय ईस्ट इंडिया एमआईसीएस कॉन्क्लेव की शुरुआत

कोलकाता l महानगर में अपोलो ग्लीनेगल्स अस्पताल के तत्वावधान में आगामी 9 अगस्त से द्वितीय ईस्ट इंडिया एमआईसीएस कॉन्क्लेव का आयोजन होने जा रहा है. यह कान्क्लेव 10 अगस्त तक चलेगा. कान्क्लेव के दौरान अपोलो ग्लीनेगल्स अस्पताल द्वारा आज यहाँ आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान लॉन्च की कई बाईलेटरल इंटरनल मैमेरी आर्टरी (बीआईएमए) थ्रू मिनिमली  इनवेसिव  कार्डियक सर्ज़रीज़ के बारे में लोगों को अवगत करवाया जाएगा. उपरोक्त बातों की जानकारी आज कार्यक्रम के दौरान डॉ. सुशान मुखोपाध्याय, निदेशक, कार्डियो थोरेसिक एन्ड वैस्कुलर सर्जन,अपोलो ग्लीनेगल्स हॉस्पिटल्स, कोलकाता ने दी है. उन्होंने आगे कहा, पहले बाईपास सर्जरी के दौरान हड्डियों को काटकर ऑपरेशन किया जाता था. लेकिन उपरोक्त तकनीक के ज़रिए अब इसकी आवश्यकता नही होती. बाईलेटरल इंटरनल मैमेरी आर्टरी तकनीक द्वारा हम छाती की पसलियों के बीच की खाली जगह से ही ऑपरेशन करते हैं. इस प्रक्रिया से दर्द कम होता है,रक्त कम बहता है और रोगी जल्द ठीक हो जातें हैं.

उन्होंने आगे कहा, अब तक इस प्रक्रिया द्वारा 43 मरीज़ों का ऑपरेशन किया जा चुका है और इसमें हमे 100 प्रतिशत सफलता मिली है.
आपको बता दें, बाईलेटरल इंटरनल मैमेरी आर्टरी (बीआईएमए) थ्रू मिनिमली इनवैसिव कार्डियक सर्ज़रीज़ में अमूमन 3 लाख का खर्चा आता है.

इस अवसर पर डॉ. जय बासु,वाइस प्रेसिडेंट, एडमिनिस्ट्रेशन, अपोलो ग्लीनेगल्स हॉस्पिटल्स सहित कई लोग मौजूद थे.

Comment